Home > Videos > Paediatrics > कोविड में अपने बच्चे की देखभाल कैसे करें?

कोविड में अपने बच्चे की देखभाल कैसे करें?

इस कोविड महामारी से बहुत लंबे समय से लड़ रहे हैं। लेकिन हमने पिछले महीने से कोविड रुग्णो की संख्या धीरे-धीरे कम होती हुई देखि है। अब जैसे अनलॉक हो गया है धीरे धीरे अभी सारे स्कूलस और डेकेयर सुविधाएं खुलेंगी। बच्चे फिर से स्कूल जाने लगेंगे। भले ही सब कुछ सामान्य लगे लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि कोरोनोवायरस का खतरा अभी भी कायम है। खासकर स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए। हमें पता होना चाहिए कि अपने बच्चों की देखभाल कैसे करनी चाहिए जब वे इस माहौल के संपर्क में आएंगे।

Have queries or concern ?

    बच्चे की देखभाल कैसे करें?

    1. बच्चों के लिए पोषण

    बच्चे को अच्छे स्वस्थ पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए। आहार में सभी स्वस्थ पत्तेदार सब्जियां, उच्च प्रोटीन खाद्य पदार्थ जैसे दालें या खट्टे फल जो Vitamin C से समृद्ध स्रोत फल खाने चाहिए क्योकि वह रोगप्रतिकार शक्ति बढ़ाते है।

    2. कोविड-19 के दौरान सुरक्षा उपाय

    बहार जाते वक्त आपके बच्चे को मास्क पहनना चाहिए, भीड़ में जाना टालना चाहिए और लगातार sanitiser और handwash का उपयोग करना चाहिए।

    3. बच्चों के लिए टीकाकरण

    लॉकडाउन के कारन आपके बच्चे के टीकाकरण में देरी हुई है। इसलिए कृपया सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को निर्धारित टीकों का टीका लगाया गया है क्योंकि ये टीके बच्चे को घातक बीमारियों और वायरस से बचाने में मदद करते हैं।

    4. अस्पताल जाने में संकोच न करें।

    बहुत से लोग मानते हैं कि यदि आप अस्पताल जाते हैं तो कोविड से संक्रमित होने की प्रवृत्ति अधिक है। चिंता मत करो! हॉस्पिटल्स अभी सोशल distancing और तापमान जांच जैसे सभी कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं। इसके अलावा, अस्पतालों में एक अलग-थलग कोविड विभाग भी है जो सामान्य लोगोसे अलग बनाया है ।

    5. बच्चों / PIMS में मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम

    पिछले कुछ महीनों में डॉक्टरों ने PIMS या पीडियाट्रिक इंफ्लेमेटरी मल्टीसिस्टम सिंड्रोम के लक्षण बच्चो में देखे है जो कोविड से जुड़े हैं। इसलिए, भले ही बच्चा asymptomatic हो, 2-3 दिनों में वह एंटीबॉडी विकसित करेगा जो बच्चों में यह संक्रमण पैदा करता है। यदि बच्चे को 103 का बुखार हो रहा है और यह बुखार नहीं सुलझ रहा है, अगर बच्चे के शरीर पर चकत्ते के साथ-साथ जोड़ों में सूजन आ जाती है और ऐसे कई और लक्षण दिखाई देते है। अगर इस बीमारी का जल्द पता चल जाए तो रिकवरी तेज हो सकती है।

    About Author

    dr stock

    Dr. Sagar Lad

    Consultant Paediatrician
    Contact: +91 88888 22222
    Email – ask@sahyadrihospitals.com

      Appointment Form




      For a quick response to all your queries, do call us.

      Patient Feedback

      Expert Doctors

      Generic selectors
      Exact matches only
      Search in title
      Search in content
      page
      post
      Emergency/Ambulance
      +91-88888 22222
      Emergency/Ambulance
      +91-88062 52525
      Call Now: 88888 22222